समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

शुक्रवार, 21 फ़रवरी 2014

माँ रह गई उसी गाँव के कच्चे मकान में -- प्रीती सुमन

पढ़-लिख के बेटे बन गये अफसर जहान में ।
माँ रह गई उसी गाँव के कच्चे मकान में ।।


खिल-खिल के फूल चढ़ गये मंदिर में शान से ,
बस बच गये सूखे हुए पत्ते बगान में ।।














लेखक-- प्रीती सुमन   

1 टिप्पणी:

  1. एक एक शब्द दिल के करीब लगे बिटिया
    हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected