समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 1 जुलाई 2013

सिंपल





तेज होती सांसें,
और आँखों में नमी,
ह्रदय की धक् धक्,
और बस यहीं ख़तम हो जाती है मेरी प्रेम कहानी,
बारिश में भीगते हुए एक सुनसान सड़क को निहारना,
कभी कभी अच्छा नहीं लगता क्या?
या चिलचिलाती धुप में एक पगडण्डी,
और दूर तक, मीलों तक,
न कोई छांव और न ही कोई मानुष,
कभी कभी वह भी सुकून नहीं देता क्या?
कलकत्ता की बरसती हुई दोपहरी में,
खिड़की के पास खड़े होकर,
सिगरेट पीते हुए टैगोर को पढना भी,
बहुत राहत देता है,
या फिर ट्राम में बैठे हुए मैदान * को देखते हुए गुजर जाना ,
अजीब सा है न सब कुछ,
लेकिन क्या सारे प्रश्न सचमुच इतने सिंपल होते हैं,
की आसानी से उनको समझा जा सके,
अगर इतना आसान होता,
तो शायद ..............................
शायद मैं कुछ और सोच रहा होता……

तारों को निहार रहा होता,
या फिर चलती हुई ट्रेन से दौड़ते हुए चाँद को चिढ़ा रहा होता,
उफ़्फ़…काश कुछ भी सिंपल होता मेरी लाइफ में,
कुछ भी,
पर जैसा भी है,
मुझे पसंद है,
ठीक तुम्हारी तरह।

-नीरज

* मैदान कोलकाता में है.

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार८ /१ /१३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढिया, बहुत सुंदर


    उत्तराखंड त्रासदी : TVस्टेशन ब्लाग पर जरूर पढ़िए " जल समाधि दो ऐसे मुख्यमंत्री को"
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/07/blog-post_1.html?showComment=1372748900818#c4686152787921745134

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढिया, बहुत सुंदर


    उत्तराखंड त्रासदी : TVस्टेशन ब्लाग पर जरूर पढ़िए " जल समाधि दो ऐसे मुख्यमंत्री को"
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/07/blog-post_1.html?showComment=1372748900818#c4686152787921745134

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी मित्रों का आभार, राजेश जी इस रचना को चर्चा मंच में स्थान देने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/ चर्चा मंच <a href=" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर, आभार




    यहाँ भी पधारे
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_5.html

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected