समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

मंगलवार, 4 जून 2013

"तुम्हारा होना और ना होना"

धूप रोज़ की तरह आज भी बहुत तेज है,
सिगरेट पीते हुए,
रोज़ की ही तरह आज भी गरियाया धूप को,
सब कुछ वैसा ही है,
जैसे रोज़ हुआ करता है,
सुबह उठना, तैयार होना,
और चल देना रोज़ की भागमभाग में,
दौड़ते हुए, जैसे कहीं कुछ बदला ही नहीं,
तुम्हारा होना न होना न जाने क्यूँ नहीं खलता,
सुबह की पहली किरण आज भी माथा चूमती है,
जैसे पहले चूमा करती थी,
लेकिन तुलसी, उसका क्या करूँ,
वह खामोश हो गयी है,
उसके पत्ते झरने लगे हैं,
और छत वाला गेंदा कब का सूख गया,
कोनें में रखा तुम्हारा टेडी(पोनी) अब मुझे देख कर नहीं डरता,
खुलेआम आँखों में आँखें डाल देता है,
और मैं कुछ नहीं कर पाता,
तुम्हारी तस्वीर पर नज़र पड़ते ही हटा लेना चाहता हूँ,
लेकिन वह तुमसे हटती ही नहीं,
ऑफिस की कुर्सी खाली सी दिखती है,
और ऐसा लगता है जैसे अभी तुम आ जाओगी,
और पूछोगी कई सारे अनसुलझे सवाल,
जिनमे से कितनों का जवाब मेरे पास नहीं होगा,
अब महसूस होता है कि कितना कुछ बदल गया है,
साप्ताहांत अब जल्दी नहीं ख़तम होता,
कितना अंतर है तम्हारे होने और ना होने में,
एक धुएं का गुबार या फिर घना कुहासा,
तुमसे ही पूछ रहा हूँ, बताती क्यूँ नहीं?

-नीरज

6 टिप्‍पणियां:

  1. कितना अंतर है तम्हारे होने और ना होने में---------
    mushkil sval poochti sunder kvita

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (05-06-2013) के "योगदान" चर्चा मंचःअंक-1266 पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्छी लगी मुझे रचना........शुभकामनायें ।
    सुबह सुबह मन प्रसन्न हुआ रचना पढ़कर !

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected