समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

मंगलवार, 26 मार्च 2013


........वो बार बार धमकाए चले जाते हैं ...

होली आते ही पतिदेव एलान कर देते हैं
रंग चेहरे को खराब कर देते हैं  
हम न खोलेंगे दरवाज़ा
न खेलेंगे फाग होली
वो बार बार धमकाए चले जाते हैं ......

न किसी  का फ़ोन उठाएंगे
न किसी को घर बुलायेंगे
किसी की बातो में न आयेंगे
बेमतलब ही भीगने न जाएँगे
वो बार बार धमकाए चले जाते हैं ......

इतने सालो के साथ का असर
कर देते हम धमकियाँ बेअसर
हाँ में हाँ मिलाते चले जाते हैं
कैसे भिगोये उन्हें हर बार
मंसूबे बनाये चले जाते हैं
वो बार बार धमकाए चले जाते हैं ......

देकर लालच मेवे वाली गुझिया का
मना लेते हैं हम मन अपने रसिया का
माथे पर इक छोटा सा तिलक लगायेंगे
रंग गीला नहीं बस सुखा  ही लगायेंगे
बस बार ये तसल्ली दिए जाते हैं
वो बार बार धमकाए चले जाते हैं .....
 
टीका लगाने  का ढोंग करते जाते हैं
उन्हें अपने प्यार में रँगे चले जाते हैं
कसमें भूल वो हममें समाये जाते हैं
आँखों ही आँखों से वार किये जाते हैं
होली में पिया के संग यूँ जिया करते हैं
वो क्यों बार बार धमकाए चले जाते हैं ...





6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर!
    --
    आपको रंगों के पावनपर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. तहे दिल से शुक्रिया और होली मुबारक आपको भी और म्हारा हरयाणा के सभी पाठको को ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर, होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो क्यों बार बार धमकाए चले जाते हैं ... bahut khub,holi ki shubhkamnayein

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected