समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

मंगलवार, 9 अक्तूबर 2012

मुझे चाहत का भारी खजाना पड़ा

मरा गुमसुम मेरा दिल दिवाना पड़ा,
मुझे चाहत का भारी खजाना पड़ा,
 

"तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद"
 
मुझे जल-2 के खुद को बुझाना पड़ा,
मुझे खुद को ही दुश्मन बनाना पड़ा,
"तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद"

मुझे जख्मों से रिश्ता निभाना पड़ा,
मुझे खुद को ही पागल बताना पड़ा,
 
"तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद"

मुझे नींदों से खुद को उठाना पड़ा,
मुझे ख्वाबों को जिन्दा जलना पड़ा,
 
"तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद"

मुझे अंखियों से सागर बहाना पड़ा,
मुझे खुशियों से दामन छुडाना पड़ा,
 
"तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद"

मुझे धड़कन पे ताला लगाना पड़ा,
मुझे साँसों को मरना सिखाना पड़ा,
 
"तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद"

7 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रयास, कम से कम एक सूबे के ब्लॉगर्स तो एक मंच पर दिखेंगे.मेरी शुभकामनायें स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय गौतम सर आपकी शुभकामना मेरे लिए आशीर्वाद है बहुत-२ शुक्रिया

      हटाएं

  2. मुझे नींदों से खुद को उठाना पड़ा,
    मुझे ख्वाबों को जिन्दा जलना पड़ा, ........जलाना पड़ा .........
    "तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद"

    मुझे जीते जी मर जाना पड़ा

    तेरे नैनों से नैना मिलाने के बाद .

    मुन्नी बदनाम हुई तोसे नैना भिड़ाने के बाद .

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्य वचन
    यही तो होता है नैन मिलाने के बाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सही लिखा है आपने | बहुत खूब |

    नई पोस्ट:-ओ कलम !!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected