समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

मंगलवार, 9 अक्तूबर 2012

जब किसी दिन काम वाली न आये .... ( हास्य कविता )



आँखें  नींद  से भरी हों और अंगडाई अभी ले भी न पाए
पति और बच्चो के नाश्ते के बारे अभी सोच भी न  पाए
एक संदेशा चौंका जाए ,नींद आँखों से ऐसे भगा जाए                                                                   

                            जब किसी दिन काम वाली न आये......

मूवी ,शौप्पिंग और मस्ती के अरमान सारे पानी में  बह जाए
पति के साथ लौंग ड्राइव जाने  के सपने अधूरे  ही रह जाए
केंडल लाइट डिनर से मैन्यु घूम कर दाल चावल पर आ जाए 

                              जब किसी दिन काम वाली न आये........
 पूरे महीने की भड़ास पति को हेल्प न करने में निकल जाए
बच्चो पर गुस्सा उनकी  बिखरी किताबें , जूते देख उतर जाए
काम देख देख कुछ समझ न आये ,हालत खराब होती जाए

                               जब किसी दिन काम वाली न आये .......

रोमांस की ऐसी तैसी कर पति को केवल ब्रेड,बट्टर  खिलाये
 बच्चो को भी  दुलार कर ,मुनहार कर मैग्गी खाने को मनाये
 जींस  टॉप  से औकात नाइटी पर  एप्रन  बाँधने पर आ जाए

                               जब किसी दिन काम  वाली न आये .......

  उस इंसान की खैर नहीं जो बाहर दरवाज़े पर बैल कर जाए
  फ़ोन उठाया भी तोह वक़्त बस बाई को कोसने में निकल जाए
  हमसे ज्यादा कौन है दुखी इस  दुनिया में यह  सब को जतलाये

                                    जब किसी दिन काम वाली न आये ........ 

  हस्ती घर की महारानी और राजरानी से नौकरानी पर आ जाए
  सारी अदाएं बर्तन, सफाई वाली की झाड़ू में सिमट आये
  वो हर काम के पैसे ले छूटी कर घर बैठी ऐश फरमाए
  हम सारे काम करके भी दो शब्द शाबाशी के भी न पाए

                             जब किसी दिन काम  वाली न आये......

 थकावट से चूर बदन से हर पल आह सी निकलती जाए
खुद से ही लडती खुद से ही जूझती दिल में बाई को कोसती जाए
कल लुंगी खबर ,कर दूंगी छूटी ये खुद से वाएदा करती जाए

                                जब किसी दिन काम वाली न आये ......

कल आ जाए बाई ये सोच कर रात भर प्रार्थना करती जाए
सुबह उसके आने पैर गुस्सा भूल उससे खूब खिलाये खूब पिलाए
कल तक जो कोसती थी जुबां आज वो मिश्री सी घुल घुल जाए

                                      जब अगले दिन काम वाली आ जाए .

4 टिप्‍पणियां:

  1. कामवाली पर निर्भरता की बडे सरस शब्दों में अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही मनोचित्रण किया है काम वाली पर निर्भर रहती गृहणियों का सच में यही सब होता है बहुत मजेदार रोचक कविता बधाई रश्मि तारिका जी शुभकामनायें आपकी बाई कभी छुट्टी ना ले

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद सुंदर रचना है जो की सत्य भी है, कुछ शब्दों में कितना कुछ कह दिया आपने बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर चित्रण किया है आपने कामवाली पर आज के दिन सबकी निर्भरता का |

    नई पोस्ट:-ओ कलम !!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected