समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

रविवार, 7 अक्तूबर 2012

कविता....बावरा सा मन

                    
तेरी यादों को कितना भी समेट लू
फिर भी तन्हा रहता है मन
वादे खुद से कितने भी कर लूँ ,
फिर भी बेक़रार हो जाता है मन
शिकवे तुझसे कितने भी कर लूँ
फिर भी तड़प जाता है मन
रह न सकू तुझ बिन, कुछ कह न सकू
न जाने क्यूँ खोया सा रहता है मन
दिल की चाहत है ,दिल की लगी है
मिल पाऊं या नहीं कभी तुझसे
बस तुझे देखने को चाहता है मन
डर बेशक लगता है जुदाई से
फिर भी बार बार बहकता है मन
बहस फ़िज़ूल है ,चाहत कबूल है
फिर भी मेरा घबराता है मन
तकरार भी करता .इकरार भी करता है
फिर भी तुम्हें क्यूँ अपनाता है मन
न छोड़ते बनता है ,न मिलते बनता है
दीवानों जैसी हरकते करवाता है मन
बता दो ऐ दोस्त वादा कर लो ऐ दोस्त
मैं निभा न पाऊं पर तुम निभाओगे मेरा साथ
ये दलीलें हर वक़्त मांगता है मन |

4 टिप्‍पणियां:

  1. रश्मि जी बेहद सुन्दर भाव पिरोये हैं आपने उम्दा प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्‍दर पक्तियो का संग्रह किया है और एक तरह से प्रेम का सजीव चित्रण किया है

    फिर भी तुम्हें क्यूँ अपनाता है मन
    न छोड़ते बनता है ,न मिलते बनता है
    दीवानों जैसी हरकते करवाता है मन
    बता दो ऐ दोस्त वादा कर लो ऐ दोस्त
    मैं निभा न पाऊं पर तुम निभाओगे मेरा

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन की बेबसी का खूबसूरत चित्रण
    बावरा मन ऐसा ही होता है
    सुंदर कविता हेतु बधाई रश्मि जी

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected