समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 27 अगस्त 2012

सुबह.. !!!

आज सुबह उदास सी हैं...
न जाने क्यों. कुछ चुपचाप सी है.
आँखों में बंद पानी लिए..
आज सुबह कुछ ख़ास सी है..


शायद वो रात भर सो नहीं पाई..
तभी इतनी बदली हुई सी हैं..
या शायद किसी ने दिल दुखाया है.
तभी इतनी मायूस सी हैं..


ऐसा क्या हुआ उसके साथ
क्यों किसी को कुछ नहीं बताती..
या फिर कोई उसे समझ ही नहीं सकता.
तभी अपनी तकलीफ नहीं दिखाती..!!


आज सुबह उदास सी हैं...
न जाने क्यों. कुछ चुपचाप सी है.!!!

4 टिप्‍पणियां:

  1. वाह क्या बात है जी,

    ख़ास है पर उदास भी है.... और जिसके कारण उदास है उसके प्रति प्रेम भाव में उसे जगजाहिर भी नहीं कर सकते तो चुप भी है.....
    खुबसूरत भाव!

    कुँवार जी,

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत अहसास क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected