समर्थक

यह ब्लॉग हरियाणा के ब्लॉग लेखकों को एक मंच पर लाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है | हरियाणा के सभी ब्लॉग लेखकों से निवेदन है कि वे इस ब्लॉग से न सिर्फ जुड़ें अपितु अपनी पोस्ट से इसे समृद्ध बनाएँ अगर अलग से पोस्ट न लिख पाएँ तो अपने ब्लॉग पर लिखित पोस्ट का लिंक ही लगाकर भागेदारी बनाए रखें |
इस ब्लॉग से लेखक के रूप में जुड़ने के लिए -------- dilbagvirk23@gmail.com -------पर ईमेल करें |

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

रविवार, 20 मई 2012

कुछ क्षणिकायें उम्मीद है आप सभी को पसंद आएगी--संजय भास्कर



( 1.)  सफ़र

दोस्ती का सफ़र लम्बा हुआ
तो क्या हुआ  ?
थोडा तुम चलो
थोडा हम चलेंगे
और फिर रिक्शा कर लेंगे ....!


( 2.)  फिल्मे 

आजकल चल रही फिल्मे
कर रही है कमाल
जिन्हें देख शर्म भी खुद
शर्म से हो रही है लाल .......!



संजय भास्कर

14 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया सफर है संजय भाई और फिल्मों के बारे में सब को पता है ,आज कल फ़िल्में नहीं रही सिर्फ पैसा बनाने का जरिया है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ठ प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार २२ /५/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी |

    उत्तर देंहटाएं
  3. और फिर रिक्शा कर लेंगे ....!

    बढ़िया प्रस्तुति!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोस्ती का सफ़र लम्बा हुआ
    तो क्या हुआ ?
    थोडा तुम चलो
    थोडा हम चलेंगे
    और फिर रिक्शा कर लेंगे ....!

    वाह ,,,, बहुत खूब अच्छी प्रस्तुति,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत मजेदार प्रस्तुति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया प्रस्तुति....
    सादर बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर क्षणिकायें
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप का ह्र्दय से बहुत बहुत
    धन्यवाद,
    ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.....!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
MyFreeCopyright.com Registered & Protected